घर पर बालों की देखभाल

tips for hair care at home

मालिश से जड़ें मजबूत होती हैं, खून का दौरा बढ़ता है और आराम मिलता है। मालिश सिर धोने से पहले करनी चाहिए। केवल 8 से 10 मिनट तक करें और अंगुलियों के पोरों से करें हथेली से नहीं तेल हल्का सा गर्म करके फिर रुई से माँग खोलकर पूरे सिर में तेल लगा लें।

अंगुलियों के पोरों से मांग खोलकर मालिश करें अंगुली में अंगुली डालकर मालिश करें।

हाथ कन्धों पर रखें और गर्दन के पीछे वाले हिस्से में अंगूठे से मालिश करें ।

सिर के ऊपरी भाग को दोनों हाथों से दबाएँ हाथ के किनारे से सिर की मालिश करें चिकोटी काटते हुए सिर की मालिश करें मालिश के बाद तुरंत कंघी न करें आधे घंटे बाद धो दें ।

शैम्पू

बालों को देखते हुए शैम्पू का चुनाव करें अगर बाल खुश्क हैं तो अण्डा या शिकाकाई शैम्पू का चुनाव करें अगर तैलीय है तो नींबू का शैम्पू इस्तेमाल करें। सामान्य बालों पर कोई भी शैम्पू इस्तेमाल कर सकते हैं।

बालों में शैम्पू करने का तरीका

बालों को गीला करके थोड़े से पानी में शैम्पू मिला दें, सिर पर शैम्पू डालते जाएं और उसे मलते जाएं पानी से धोलें। दो बार शैम्पू का इस्तेमाल करें यदि शैम्पू में कंडीशनर है तो शैम्पू को पानी में न मिलाएं Direct इस्तेमाल करें।

कंडीशनर

कंडीशनर से बालों पर एक रक्षात्मक परत आ जाती है। जिससे बाहरी चीजों का प्रभाव बहुत कम हो जाता है। तैलीय बालों कि चिकनाई कम हो जाती है | शुष्क बालों की खुश्की कम हो जाती है |

आंवले का कंडीशनर 

एक मुट्टी आंवले को एक मग पानी में भिगो दें हाथ से मसलकर छान लें। फिर शैम्पू भरने के बाद कंडीशनर का पानी सिर पर डालें और धीरेधीरे मलें। दस मिनट के बाद धो दें आंवले का कंडीशनर खुश्क बालों के लिए होता है।

नीबू व सिरके का कंडीशनर

एक मग चाय का उबला हुआ पानी लें और conditioner की तरह इस्तेमाल करें, ये सूखे बालों के लिए अच्छा (suitable) है।

बालों को सुखाने का तरीका

रौएं वाले तौलिए से बालों को लपेट लें उसके बाद सूखने पर मोटे कंघे से कंघी कर लें । गीले बालों में कंघी न करें।

बालों में डेंड्रफ के लिए

  1. अण्डे की सफेदी में दो चम्मच नीबू डालें बालों पर लगाएं सूख जाने के पश्चात धो दें।
  2. सरसों का तेल चौथाई कटोरी लेकर एक छोटा नींबू लेकर अच्छी तरह फेंट लें सिर पर लगाकर भाप दें और शैम्पू कर लें।
  3. चौथाई कटोरी गोले का तेल लें उसमें बोरिक पॉउडर डाल दें। सिर पर लगाकर भाप दें।
  4. गोले के तेल में थोड़ा-सा कपूर पीसकर सिर पर लगाएं व थोड़ी देर बाद धो दें।

दो मुँह के बाल

खुश्की से बाल दो मुँह के हो जाते हैं ज्यादा खुला रखने से भी दो मुँह के बाल हो जाते हैं। खुश्की से बालों को बचाना चाहिए। दो मुँह के बाल नीचे से कटवाते रहना चाहिए।

सफेद बाल

ज्यादातर खुश्की से होते हैं। बादाम का तेल, आरन्डी के तेल से मालिश करें। सफेद बालों को जड़ों से नहीं निकालें। अगर थोड़े से बाल सफेद हैं तो उसे जड़ के पास से काट दें कच्चे आंवले को पीसकर रस निकालें और जड़ों में लगाएं।

बालों के लिए- डाई 

डाई दो प्रकार की होती हैं

1. केमीकल डाई

सफेद बाल पूरी तरह से काले हो जाते हैं, जिससे नुकसान यह है कि सिर के सारे बाल जल्दी सफेद हो जाते हैं। किसी-किसी को डाई सूट करती है।

2. मेंहदी डाई

यह बहुत अच्छा कंडीशनर है, इससे कोई नुकसान नहीं है बालों को ठण्डक पहुँचती है और धीरे-धीरे रंग पकड़ते हैं बाल एकदम काले नहीं होते। मेहंदी उक्त बालों को suitable है।

200 gm मेहंदी

2 बड़े चम्मच चायपत्ती

2 छोटे चम्मच कॉफी पाँउडर

2 नींबू, एक अण्डा यदि चाहें तो, डाई कर रहे हैं तो 50 gm आंवला लें यदि conditioner कर रहे हैं तो मेंहदी के अन्दर तेल या दही डाल दें।

मेंहदी बनाने का तरीका

आंवले को लोहे की कढ़ाई में 4-5 घण्टे भिगो दें फिर मसलकर छान लें उसी में चाय और कॉफी उबाल लें। Conditioner कर रहे हैं तो नल के पानी में चाय और कॉफी उबाल लें छान लें मेहंदी छने हुए पानी में 2-3 घंटे भिगो दें फिर उसमें बाकी चीजें डाल दें।

बालों में मेंहदी लगाने का तरीका

बालों को गीला कर लें डाई ब्रश से सिर के बीचों-बीच लगाना शुरू करें | थोड़े-थोड़े बालों को लें तथा जड़ों से शुरू करते हुए सिर तक मेंहदी लगा दें सिर के बीचों-बीच उसको लपेट दें। इसी प्रकार पूरे सिर पर मेंहदी लगायें यदि बाल डाई कर रहे हैं तो 3 घण्टे मेंहदी बालों में लगाए रखें और कंडीशनर कर रहे हैं तो 1-2 घण्टे रखें।

डाई बालों को पानी से धोएं।

कंडीशनर बालों को शैम्पू से धोएं।

हर्बल शम्पू (Herbal Shampoo)

100 gm आंवला

100 gm शिकाकाई

50 gm  रीठा

25 gm मेथी दाना

इन सभी वस्तुओं को धूप में सूखा दें फिर कूट कर रंख लें जिस दिन बालों को धोना हो, दो मुट्टी ले कर एक मग में भिगो दें फिर छान कर रखें और छने पानी में बाल धो लें।

स्ट्रेट कटिंग

  1. बालों में तेल नहीं होना चाहिए।
  2. बाल शैम्पू से तुरन्त धुले हों।
  3. बाल अच्छी तरह गीले होने चाहिए।
  4. यदि बाल घने हैं तो अलग-अलग भागों में बाँट लें।
  5. पीछे के बालों के दो हिस्से करें।
  6. पीछे के बालों को सीधा करें।
  7. सेन्टर से शुरू करते हए पहले बाँये से दाएं में काटे।
  8. ऊपर से बाल खोल दें नीचे की लेयर से मिलाते हुए ऊपर से काट दें।
  9. सामने के बालों को खोलकर कमर के पीछे लें। बालों को मिलाते हुए स्ट्रेट में काट दें फिर सब को मिलाकर finishing दे दें। उसके बाद काट दें।

U (यू) कटिंग

  1. बालों में तेल न हो बाल मैले नहीं होने चाहिए।
  2. बाल अच्छी तरह गीले होने चाहिए।
  3. यदि बाल घने हैं तो अलग-अलग भागों में बाँट लें।
  4. पीछे से बालों को अच्छी तरह फैलाकर रखें।
  5. फिर सेन्टर से शुरू करते हुए “U” शेप में काट दें।
  6. ऊपर से बाल खोल दें। नीचे की लेयर से मिलाते हुए ऊपर के बालों को “U” में काट दें।
  7. ऊपर से बाल खोल दें। नीचे की लेयर से मिलाते हुए ऊपर से काट दें।
  8. सामने से बाल खोलिए। फिर पीछे से गुच्छे मिलाते हुए काट दें। बाल काटने के बाद सब बालों को मिलाकर फिनिशिंग दे दें।

स्टेप कटिंग (Step Cutting)

स्टेप कटिंग वो कटिंग है जिससे बाल सारे तथा एक लम्बाई में काटे जाते हैं।

  1. बालों में तेल नही होना चाहिए।
  2. बालों को अलग-अलग भागों में बांट दें।
  3. नीचे से बाल U में काट दें उसके बाद उसके ऊपर वाले बालों को थोड़ा-सा स्टेप देते हुए काट दें।
  4. इसी तरह तीसरी लेयर भी स्टेप देते हुए काट दें।
  5. सामने के बालों की भी लेयर निकाल दें फिर पीछे से यू से मिलाते हुए स्टेप में काट दें और पीछे से शुरू करते हुए स्टेप में काट दें। इसी तरह दोनों लेयर काट लें पीछे से U में फिनिशिंग दे दें।

बेबी कटिंग (Baby Cutting)

  1. बालों में तेल नही होना चाहिए।
  2. बालों में शैम्पू करें।
  3. बाल अच्छी तरह गीले होने चाहिए।
  4. अगर बच्चा 5 साल से छोटा है तो कान के पीछे से बालों को U शेप में काट लें, सामने के बालों को माथे की ओर बना लें।

Eye-bro से 1/2 इंच ऊपर गोलाई में काटते हुए पीछे से यू में काट दें ड्रायर से Finishing दे दें।

ड्रायर सैटिंग (Dryer Setting)

ड्रायर सैटिंग 3-4 घंटे चलती है।

ज्यादा Dryer करने से बाल खुष्क व जड़ें कमजोर हो जाती हैं।

  1. ड्रायर करते हुए बालों से कम-से-कम 3-4 इंच दूर रखना चाहिए।
  2. ड्रायर चलाते हुए एक ही जगह ड्रायर नहीं रखना चाहिए। ड्रायर हिलाते रहना चाहिए।
  3. नं. 1 पर ड्रायर चलाना चाहिए।

परमानेन्ट सैटिंग (Permanent Setting)

लम्बे समय तक बालों को Chemical द्वारा धुंघराला करने को पर्मिग कहते हैं।

बालों को Shampoo कर दें  Conditioner with cutting & setting देखते हुए बालों को अलग-अलग भागों में बांट दें।

एक समय में थोड़े से बाल उठायें रुई से perming lotion या velocity lotion लगाएं रुई से बालों की जड़ों से लेकर बालों के सिरे तक लगा दें बालों को Tissu Paper द्वारा पकड़ लें फिर लकड़ी के रोलर के चारों तरफ लपेट दें और रबड़ बैंड लगा दें।

न्यूट्रेलाइजर को सही अनुपात में लेकर एक मग गर्म पानी में घोलें और कम-से-कम 15-20 मिनट के लिए छोड़ दें। फिर बालों में कलर लगे हुए बालों को न्यूट्रेलाइजर के पानी में कम-से-कम 8-10 बार धो दें। बालों का टैस्ट करने के लिए एक Roller खोल कर देख लें कि बालों में कलर आया है या नहीं अगर नहीं तो थोड़ी देर और कलर बन्द रहने दें। सूख जाने पर खोल दें और ड्रायर से सैट कर दें।

Note : Perming 5-6 महीने चलती है उसके बाद बाल सीधे हो जाते हैं। Perming से तीन हफ्ते पहले और तीन हफ्ते बाद मेहंदी नहीं लगानी चाहिए बहुत ज्यादा Perming करने से बाल खुष्क व जड़ें कमजोर हो जाती हैं ।

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*