बारिश में पैरों की देखभाल है जरूरी Monsoon Foot Care Tips In Hindi

monsoon foot care tips hindi

बारिश में पैरों की देखभाल है जरूरी Monsoon Foot Care Tips In Hindi

मानसून का सीजन आने ही वाला है और आप में से कई महिलाएं इस बात को लेकर जरूर चिंतित होंगी कि पैरों को कैसे खूबसूरत बनाकर रखा जाय | क्योकि इस सीजन में बारिश के कारण पैरो में कई तरह की समस्याएं पैदा हो जाती हैं | इसलिए पैरों की देखभाल भए इस सीजन में अधिक करनी पड़ती है | आइये जानते है कि कैसे मानसून सीजन में पैरों को सुन्दर बनाएं रखा जा सकता है –

❤ तलवों के दर्दरहित, चिकने और खूबसूरत होने से चेहरे की त्वचा पर स्वाभाविक आभा छलक उठती है | इसकी देखभाल करने से शरीर भी स्वस्थ बना रहता है | बहुत सी महिलाएं खासतौर पर घरेलू महिलाएं तलवों को नज़रअंदाज़ कर देती हैं | उनके चेहरे तो चमकते दिखेंगे लेकिन पूरा दिन घर पर नंगे पांव चलेंगी तो तलवे गंदे और फटे हुए ही रहेंगे | यदि पैरों के तलवे गंदे या कटे फटे होगें तो चेहरे की सुंदरता की चमक भी स्वतः फीकी हो जाती है |

❤ जब तलवे की नियमित रूप से सफाई व मालिश नहीं की जाती तो शरीर की त्वचा को पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन और खून भी नहीं मिलता, जिससे आपके चेहरे पर लालिमा कम हो जाती है | तलवों की सफाई से रक्त संचार बढ़ता है और ऑक्सीजन भरपूर मात्रा में मिलती है, जिससे रंगत लालिमा युक्त होती है और आपकी मोहकता में वृद्धि करती है |

❤ आप कोशिश करें की कम से कम नहाते समय तो तलवो को अच्छे से साफ़ करे | आप तलवों को किसी ब्रश या प्यूमिक स्टोन से भी साफ़ कर सकती हैं | नहाने के बाद तलवों की नारियल तेल या सरसों के तेल से मालिश करना न भूले, इससे आपके शरीर में रक्त संचार अच्छे से हो जाता है |

❤ तलवों को शरीर का दूसरा हृदय कहा जाता है, क्योंकि तलवों पर गुदगुदे मांस होता है | जिस पर बहुत सारे रोम छिद्र होते हैं | इनका आकार, त्वचा पर जो रोम छिद्र होते हैं उनसे बड़े होते हैं | जब हम चलते हैं तो इस गुदगुदी गद्दी पर पूरे शरीर का दबाव पड़ता हैं, जिससे रोम छिद्र फैल जाते हैं |

[इसे भी पढ़े – फटी एड़ियों के लिए घरेलु उपाय]

इसलिए हम कह सकते कि यदि आप अपने तलवों की अच्छे से देखभाल करती हैं, तो उनमे कोई समस्या नहीं आयेगी और साथ ही आपका पूरा शरीर भी स्वस्थ बना रहेगा |

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*