मेकअप पर प्रकाश प्रभाव

tips for night makeup

शायद आप नहीं जानती होंगी कि सुन्दर चेहरे के लिए प्रकाश का कितना महत्व है। विशेषकर मेकअप के उभार में प्रकाश बहुत बड़ी भूमिका अदा करता है। एक तरफ जहां दीपक या मोमबत्ती का मंद-मंद प्रकाश चेहरे को एक विशेष ढंग की झिलमिलाती कमनीयता देता है, वहीं दूसरी तरफ तेज और चकाचौंध रोशनी चेहरे की प्रकृति एवं रंगत को उभारने में जादू का काम करती है। शायद आपने यह अहसास अवश्य ही किया होगा कि प्रात:काल की सूर्य की किरणे कोमल एवं दोपहर की तेज धूप चेहरे को तीव्र रूप प्रदान करती है।

परन्तु उचित प्रकाश में किया गया सही मेकअप ही सुन्दर चेहरे का राज होता है। मेकअप करने से पूर्व अपने चेहरे की आकृति के प्रति आपको अवश्य ध्यान देना चाहिए। अच्छे श्रृंगार के द्वारा चेहरे की आकृति में इच्छानुसार थोड़ाबहुत परिवर्तन लाया जा सकता है, इसलिए मेकअप का प्रयोग इस प्रकार किया जाना चाहिए कि वह स्वाभाविक लगे, वरना आपकी सारी मेहनत पर पानी फिर सकता है।

साथ-साथ भाव-भंगिमा की गहराई पर भी प्रभाव पड़ता है तथा अधिक उम्र के लोगों के चेहरे को कम उम्र का और कम उम्र के लोगों के चेहरे को अधिक उम्र का दिखाया जा सकता है। इस बात की पुष्टि किसी फोटाग्राफर से की जा सकती है। यदि वह चाहे तो चेहरे की कमियों को प्रकाश की रोशनी से छिपा देता है और यदि दिखाना चाहे तो सभी कमियों को उभार सकता है। एक ही तरह का मेकअप सुबह की रोशनी में कुछ, दोपहर में कुछ तथा रात में कुछ दिखायी देता है। –

गर्मियों तथा तेज धूप में हल्के रंग भी तेज महसूस होते हैं। कुछ लोग तो बिना फाउंडेशन के भी अच्छे दिखते हैं। यदि किसी का चेहरा पीलापन लिए हुए हो तो गरमी के मौसम में थोड़ा सा माइश्चराइजर तथा हल्का-सा आई शेडो, रात में कुछ गहरे रंग के मेकअप की आवश्यकता होती है, इसलिए सबसे पहले माइश्चराइजर से कार्य आरम्भ करें, उसके बाद फाउंडेशन लगाएं और फिर पेंसिल या लिपिस्टिक से होठों की बाहरी आकृति बनाएं, इसके बाद संपूर्ण चेहरे पर भली भांति पाउडर लगाएं। अत्यधिक लगे पाउडर को सावधानीपूर्वक पोंछ दें। इस ढंग से किए हुए मेकअप की एक हल्की-सी परत बहुत देर तक चेहरे पर लगी रहती है।

अब अपने चेहरे की आकृति को सूखी लाली से उभारने का प्रयत्न करें। गालों के  में गड्ढों जरा गहरे रंग का ब्लशर लगाएं। यदि चाहें तो आंखों के गड्ढों एवं कनपटी पर भी इसे लगा सकती हैं। रात को रोशनी में आंखों एवं होठों के प्रति विशेष ध्यान दें। आंखों में चमक लाने के लिए मस्कारा तथा गहरे काले रंग की पेंसिल का प्रयोग करें। होठों की वाह्य आकृति पेंसिल या गहरे रंग की लिपिस्टक से बनाएं क्योंकि रात की रोशनी में कभी-कभी तेज रंग की लिपिस्टक भी फीकी-फीकी सी दिखाई देने लगती है और होठ भी सुडौल दिखते हैं।

बिजली के प्रकाश में चमक होती है, इसलिए रात के समय यदि आप किसी दावत में जा रही हों तो होठों पर एक दम लाल रंग की लिपिस्टक लगाएं और आंखों पर हल्के भूरे, हरे या नीले रंगों का प्रयोग करें। निओन लाइट तीव्र होती है, इसलिए यदि इस तेज रोशनी के नीचे बैठना है तो हल्के रंगों जैसे स्लेटी, बादामी आदि रंगों का प्रयोग न करें। इससे चेहरा बहुत फीका-फीका सा दिखाई देने लगता है। ऐसे समय कुछ स्निग्ध रंगों का प्रयोग करना ही ठीक होगा। जैसे गुलाबी, कोरल आदि। आंखों के इर्द-गिर्द गुलाबी या तांबाई रंग इत्यादि का प्रयोग करना बेहतर होगा।

यदि आपको किसी ऐसी जगह जाना है, जहां तेज रोशनी की बजाय मध्यम रोशनी की व्यवस्था है तो मेकअप इस प्रकार करें कि चेहरा स्वाभाविक जान पड़े। इस रोशनी से नारंगी रंग के होंठ और बड़ी आँखें अच्छी नहीं लगती। चेहरे पर ब्लशर का प्रयोग प्रचुर मात्रा में करें। आंखों को विस्तृत आकार प्रदान करने का प्रयत्न करें, ताकि उनसे सारे भावों की अभिव्यक्ति हो सके। होठों के लिए त्वचा के रंग से मेल खाता नीला, लाल या शराब के रंग की लिपिस्टक का तथा आँखों के लिए मोव या अंगूरी रंगों का प्रयोग करें।

मेकअप हमेशा ड्रेसिंग टेबल के पास खड़े होकर किया जाता है। इसलिए इस बात का ध्यान रखें कि वहां पर्याप्त रोशनी हो और ऐसी रोशनी हो जो आपके संपूर्ण चेहरे पर सामने की तरफ पड़े, लेकिन चौंधियाएँ नहीं, जिस प्रकार रंगमंच के लिए प्रकाश की व्यवस्था की जाती है, वैसा ही प्रकाश ड्रेसिंग टेबल पर हो तो बेहतर है। संध्या के समय बिजली की रोशनी में मेकअप करना उपयुक्त होगा।

मेकअप करने के बाद धीमे प्रकाश में दीपक अथवा मोमबत्ती के पास खड़े होकर अपने चेहरे को घुमा-फिरा कर निरीक्षण करें, फिर ड्रेसिंग टेबल या स्नान गृह में ऐसी जगह खड़ी होकर देखें, जहां आपके चेहरे पर पर्याप्त रोशनीं पड़ती हो। ताकि आप अपने चेहरे के मेकअप का भली प्रकार निरीक्षण कर सकें।

Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*